काला मोतियाबिंद (ग्लूकोमा) क्या है?

ग्लूकोमा, जिसे काला मोतियाबिंद के नाम से भी जाना जाता है, एक नेत्र रोग है जो आँख की ऑप्टिक तंत्रिका को नुकसान पहुंचाता है। आँख की ऑप्टिक तंत्रिका आँख से मस्तिष्क तक दृश्य जानकारी भेजती है और उचित एवं अच्छी दृष्टि के लिए महत्वपूर्ण है। आँख में उच्च दबाव अक्सर ऑप्टिक तंत्रिका को नुकसान पहुंचाने के लिए जिम्मेदार होता है लेकिन ग्लूकोमा सामान्य आँख के दबाव से भी हो सकता है। ग्लूकोमा किसी भी उम्र के लोगों में विकसित हो सकता है, लेकिन 60 वर्ष से अधिक उम्र के वृद्ध व्यक्तियों में यह अधिक आम है। ग्लूकोमा वृद्ध लोगों में अंधेपन के प्रमुख कारणों में से एक है।

ग्लूकोमा के लक्षण

ग्लूकोमा या 'काला मोतियाबिंद' कई प्रकार के होते हैं। ग्लूकोमा के लक्षण ग्लूकोमा के प्रकार और अवस्था पर निर्भर करते हैं। कुछ ग्लूकोमा ऐसे होते हैं जिनके प्रारंभिक चरण में लक्षण दिखाई नहीं देते हैं लेकिन जब बीमारी का पता चलता है तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।

यदि आपको ग्लूकोमा है, तो आपको ये लक्षण दिख सकते हैं:

दृष्टि हानि

धुंधली दृष्टि

बार-बार सिरदर्द होना

आँख में लाली

परिधीय दृष्टि हानि

रौशनी के चारो ओर प्रकाश का घेरा दिखना

दृष्टि क्षेत्र में काले धब्बे दिखना

यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखे, तो ग्लूकोमा विशेषज्ञ से परामर्श लें।

ग्लूकोमा में दृष्टि हानि प्रगति

ग्लूकोमा के कारण परिधीय दृष्टि की हानि होती है, जिससे दृष्टि पर प्रभाव पड़ता है और दृष्टि एक सुरंग की तरह हो जाती है।

स्वस्थ दृष्टि
Two
Three
Four
Five
Six
Seven
Eight
Nine
Ten
 
स्वस्थ दृष्टि
 
ग्लूकोमा एडवांस स्टेज
यह केवल प्रदर्शन के उद्देश्यों के लिए है और इसका उद्देश्य चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। हमेशा अपनी दृष्टि की समस्या और उसी के उपचार के बारे में डॉक्टर से सलाह लें।

क्या मुझे ग्लूकोमा का खतरा है?

आपको ग्लूकोमा का खतरा है, यदि:

  • आपकी उम्र 60 वर्ष से अधिक है
  • आपके परिवार में ग्लूकोमा का इतिहास रहा हो
  • आपकी आँख में दबाव अधिक है
  • आपकी आँख में कॉर्निया पतला है
  • आप मधुमेह या उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं
  • आप मायोपिया या निकट दृष्टिदोष से पीड़ित हैं
  • आपकी आँखों की कोई सर्जरी हुई हो या कोई चोट लगी हो
  • आप लंबे समय से स्टेरॉयड सेवन कर रहे हैं
  • आप अत्यधिक धूम्रपान करते हैं

क्या मुझे ग्लूकोमा का खतरा है?

आपको ग्लूकोमा का खतरा है, यदि:
  • आपकी उम्र 60 वर्ष से अधिक है
  • आपके परिवार में ग्लूकोमा का इतिहास रहा हो
  • आपकी आँख में दबाव अधिक है
  • आपकी आँख में कॉर्निया पतला है
  • आप मधुमेह या उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं
  • आप मायोपिया या निकट दृष्टिदोष से पीड़ित हैं
  • आपकी आँखों की कोई सर्जरी हुई हो या कोई चोट लगी हो
  • आप लंबे समय से स्टेरॉयड सेवन कर रहे हैं
  • आप अत्यधिक धूम्रपान करते हैं

चेतावनी!

यदि आप वर्तमान में किसी दृष्टि संबंधी समस्या से पीड़ित नहीं हैं तो भी अपनी आंखों की जांच करवाएं क्योंकि ग्लूकोमा आपकी दृष्टि चुरा सकता है।

ग्लूकोमा के शुरुआती चरण में कोई लक्षण दिखाई नहीं भी दे सकते हैं परन्तु जब इसका पता चलता है, तब तक रोगी के लिए बहुत देर हो चुकी होती है। ग्लूकोमा के कारण दृष्टि हानि को बहाल नहीं किया जा सकता है, लेकिन उचित दवा और उपचार से दृष्टि हानि को रोका जा सकता है।

कोई जोखिम न लें, ग्लूकोमा स्पेशलिस्ट से परामर्श लें

विश्वस्तरीय ग्लूकोमा उपचार
बिहार के सबसे बड़े नेत्र अस्पताल में

  • अत्याधुनिक उपकरणों द्वारा आँखों की जाँच
  • संपूर्ण ग्लूकोमा उपचार: लेजर थेरेपी एवं सर्जरी
  • अत्याधुनिक सुविधाओं वाला विशेष ग्लूकोमा विभाग
  • कुशल एवं अनुभवी ग्लूकोमा विशेषज्ञ और सर्जन

आँख अस्पताल जिस पर आप भरोसा कर सकते हैं

17+ वर्षों का अनुभव

अनुभवी एवं कुशल नेत्र सर्जन

150+ योग्य ऑप्टोमेट्रिस्ट

क्षेत्र में ऐसा आँख अस्पताल और नहीं

अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल पिछले 17+ वर्षों से बिहार और उत्तर प्रदेश में समुदाय को उच्च गुणवत्ता वाली, सुलभ और सस्ती नेत्र देखभाल सेवाएं प्रदान कर रहा है। अनुभवी नेत्र विशेषज्ञों / डॉक्टरों और कुशल नेत्र सर्जनों के साथ, अस्पताल रोगियों को विश्व स्तरीय नेत्र जाँच एवं उपचार सेवाएं प्रदान करता है।

  • पूर्वी भारत का सबसे बड़ा नेत्र अस्पताल
  • क्षेत्र का सबसे भरोसेमंद नेत्र अस्पताल
  • सालाना 10,00,000 खुश व संतुष्ट मरीज़
  • हर साल 90,000+ आँखों की सर्जरी
  •  40+ अस्पताल और नेत्र क्लिनिक
  •  875+ बेड की उपलब्धता
  • प्रतिष्ठित संस्थानों के प्रसिद्ध नेत्र चिकित्सकों की टीम
  • अनुभवी एवं कुशल नेत्र सर्जनों का पैनल
  • अत्याधुनिक मशीनें, ऑपरेशन थिएटर और अन्य सुविधाएं
  • किफायती कीमत पर आँखों की जाँच एवं उपचार
  • एक ही छत के नीचे सभी नेत्र देखभाल सेवाएँ

हमारे खुश और सतुंष्ट मरीज़ हमारे बारे में क्या कहते हैं

रोगी प्रशंसापत्र

अस्पताल का पता और कार्य समय:

ग्लूकोमा के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

ग्लूकोमा रोगी की एक आँख या दोनों आँखों में विकसित हो सकता है।

ग्लूकोमा से दृष्टि हानि होती है और यदि उपचार न किया जाए, तो यह अंततः दृष्टि चुरा सकता है और रोगी को स्थायी रूप से अंधा बना सकता है।

ग्लूकोमा के कारण दृष्टि हानि को बहाल नहीं किया जा सकता है, लेकिन उचित दवा या सर्जरी या दोनों द्वारा आगे की दृष्टि हानि को रोका जा सकता है। यह महत्वपूर्ण है कि रोगी बार-बार नेत्र चिकित्सक या विशेषज्ञ से अपनी आँखों की जाँच कराता रहे।

भले ही ग्लूकोमा दोनों आँखों में विकसित हो जाए, लेकिन यह दोनों आँखों को समान रूप से प्रभावित नहीं भी कर सकता है।

ग्लूकोमा के कारण दृष्टि हानि या अंधापन स्थायी है और इसे बहाल नहीं किया जा सकता है। इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, अपनी आँखों की जाँच करा लें।

नहीं, ग्लूकोमा एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है। ग्लूकोमा किसी संक्रमण के कारण नहीं होता है, इसलिए ऐसा कोई जोखिम नहीं है कि आपको यह किसी और से हो जाए।

हां, यदि आपके परिवार में ग्लूकोमा का इतिहास है, तो आपको इसका खतरा है।

हाँ, यह आजीवन दृष्टि की स्थिति है। दृष्टि हानि की प्रगति को नियंत्रित रखने के लिए मरीज को नेत्र विशेषज्ञ के साथ निरंतर अनुवर्ती जाँचो की आवश्यकता होती है।

यह सीधे तौर पर प्रभावित नहीं करता है लेकिन यह हमेशा बेहतर होता है कि अपनी आँखों पर तनाव न डालें। यदि लंबे समय तक एकाग्रता बनाए रखने से आपकी आँखें थक जाती हैं, तो कृपया अपनी आँखों को आराम दें।

ग्लूकोमा के मरीजों को फास्ट फूड खाने से बचना चाहिए, धूम्रपान छोड़ना चाहिए और स्वस्थ जीवनशैली अपनानी चाहिए।

यदि आप ग्लूकोमा के मरीज हैं, तो आप अपनी दृष्टि में अधिक सुधार नहीं कर सकते हैं या अपनी दृष्टि को बहाल नहीं कर सकते हैं, लेकिन उचित दवा और उपचार के माध्यम से अपनी दृष्टि को और अधिक खराब होने से बचा सकते हैं।

ग्लूकोमा के कारण दृष्टि हानि को बहाल नहीं किया जा सकता है, लेकिन उचित दवा और उपचार रोगी को आगे दृष्टि हानि से बचाने में मदद कर सकता है। नेत्र विशेषज्ञ या डॉक्टर से लगातार इलाज कराने पर मरीज सामान्य जीवन जी सकता है।

अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल का सबसे बड़ा आँख अस्पताल बिहार के सारण जिले में स्थित है।
पता है: मस्तीचक, पोझी परसा, सारण, बिहार - 841219
अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल के बिहार और उत्तर प्रदेश में 5 अस्पताल और 34+ नेत्र क्लिनिक है।

अस्पताल साप्ताहिक दिनों में सुबह 8:00 बजे से दोपहर 3:00 बजे के बीच संचालित होता है। शनिवार को, अस्पताल सुबह 8:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक खुला रहता है। रविवार को अस्पताल बंद रहता है। अन्य सभी आँख अस्पतालों और नेत्र क्लीनिकों के कार्यकाल अवधि जानने के लिए, हमें 9262971777 पर वाट्सऐप करें।

नेत्र जाँच शुल्क अस्पताल में 300 रुपये तथा नेत्र क्लिनिक में 200 रुपये है।

यहां फॉर्म भरें। हमारे कार्यकारी आपको आपके निकटतम अखण्ड ज्योति आँख अस्पताल या नेत्र क्लिनिक में डॉक्टर अपॉइंटमेंट बुक करने के लिए कॉल करेंगे।

अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल के वरिष्ठ नेत्र सर्जनों के पास 20,000 से अधिक नेत्र शल्य चिकित्सा करने का अनुभव है। अनुभवी एवं अत्यधिक कुशल डॉक्टरों और विशेषज्ञों का पैनल मरीजों को सर्वोत्तम श्रेणी का उपचार प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।

हां, आयुष्मान भारत कार्ड केवल अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल, मस्तीचक केंद्र में स्वीकार किया जाता है। अस्पताल पता है: मस्तीचक, पोझी परसा, सारण, बिहार - 841219।

अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल एक प्राइवेट आँख अस्पताल है जिसका स्वामित्व और संचालन युगऋषि श्रीराम शर्मा आचार्य चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा किया जाता है।

हां, आप अपने आयुष्मान भारत कार्ड से अपनी आँखों की जाँच करवा सकते हैं और जरूरत पड़ने पर सर्जरी का लाभ भी उठा सकते हैं।

अधिक जानकारी के लिए हमें वाट्सऐप करें 9262971777

* परिणाम टाइप करें

2 + 9 =

अधिक जानकारी के लिए ऊपर दिया गया फॉर्म भरें। हमारे कार्यकारी आपको दिए गए नंबर पर कॉल करेंगे।